विज्ञान भैरव तंत्र ओशो हिन्दी पीडीएफ | Vigyan Bhairav Tantra Osho Hindi PDF

विज्ञान भैरव तंत्र ओशो पीडीएफ हिन्दी में फाइनल डाउनलोड  | Vigyan Bhairav Tantra Osho PDF in Hindi final downlaod

सभी हिंदी पुस्तकें पीडीएफ Free Hindi Books pdf

पुस्तक डाउनलोड करेfreehindipustakdownload

पुस्तक ख़रीदेfreehindipustakdownload-3
पुस्तक ख़रीदे

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

अगर इस पेज पर दी हुई सामग्री से सम्बंधित कोई भी सुझाव, शिकायत या डाउनलोड नही हो रहे हो तो नीचे दिए गए Contact Us बटन के माध्यम से सूचित करें। हम आपके सुझाव या शिकायत पर जल्द से जल्द अमल करेंगे

hindi pustak contactSummary of Book / बुक का सारांश 

‘भांतियां छलती है, रंग सीमित करते है, विभाज्य भी अविभाज्य है।” यह एक दुर्लभ विधि है। जिसका प्रयोग बहुत कम हआ है। लेकिन भारत के एक महानतम शिक्षक शंकराचार्य ने इस विधि का प्रयोग किया है। शंकर ने तो अपना पूरा दर्शन ही इस विधि के आधार पर खड़ा किया है। तुम उनके माया के दर्शन को जानते हो। शंकर कहते है कि सब कुछ माया है। तुम जो भी देखते, सुनते या अनुभव करते हो, सब माया है। वह सतय नहीं है। क्योंकि सत्य को इंद्रियों से नहीं जाना जा सकता। तुम मुझे सुन रहे हो और मैं देखता हूं कि तुम मुझे सुन रहे हो, हो सकता है कि यह सब स्वप्न हो। यह स्वप्न है या नहीं, यह तय करने का कोई उपाय नहीं है। हो सकता है कि मैं स्वप्न देख रहा हूं। कि तुम मुझे सुन रहे हो। यह मैं कैसे जान सकता हूं कि यह स्वपन नहीं, सत्य है। कोई उपाय नहीं है।

freehindipustak पर उपलब्ध इन हजारो बेहतरीन पुस्तकों से आपके कई मित्र और भाई-बहन भी लाभ ले सकते है – जरा उनको भी इस ख़जाने की ख़बर लगने दें | 

‘The letters are shocked, the color limits, the divisibility is also inseparable. “This is a rare method. Which is very low. But a great teacher of India has used this method. Shankar has completed his entire philosophy. Only standing on this method. You know the philosophy of their Maya. Shankar says that everything is Maya. Whatever you see, listen or experienced, all is Maya. Because truth is You can not go to the senses. You are listening to me and I see that you are listening to me, it may be all dream. This is a dream or not, there is no way to decide. Maybe That’s what I’m watching. That you are listening to me. How can I know that this is not selfish, it is true. There is no solution.

Connect with us / सोशल मीडिया पर हमसे जुरिए 

telegram hindi pustakhindi pustak facebook