मुकुल – सुभद्रा कुमारी चौहान पीडीएफ फाइनल में डाउनलोड करें | Mukul – Subhadra Kumari Chauhan In PDF Final Download

मुकुल – सुभद्रा कुमारी चौहान पीडीएफ फाइनल में डाउनलोड करें | Mukul – Subhadra Kumari Chauhan In PDF Final Download

सभी हिंदी पुस्तकें पीडीएफ Free Hindi Books pdf

पुस्तक डाउनलोड करे

पुस्तक ख़रीदे

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

अगर इस पेज पर दी हुई सामग्री से सम्बंधित कोई भी सुझाव, शिकायत या डाउनलोड नही हो रहे हो तो नीचे दिए गए Contact Us बटन के माध्यम से सूचित करें। हम आपके सुझाव या शिकायत पर जल्द से जल्द अमल करेंगे

hindi pustak contactSummary of Book / बुक का सारांश 

सुभद्रा कुमारी चौहान (१६ अगस्त १९०४-१५ फरवरी १९४८) लोकप्रिय कविता “झांसी की रानी” (झांसी की रानी के बारे में) के लिए प्रसिद्ध एक भारतीय कवि थे।

सुभद्रा कुमारी चौहान भारत की एक प्रमुख कवयित्री थीं, जिनकी रचनाएँ बहुत भावनात्मक रूप से आवेशित होती थीं। उनका जन्म 1904 में इलाहाबाद जिले के निहालपुर गांव में हुआ था।

उन्होंने १९१९ में सोलह वर्ष की आयु में [खंडवा] के ठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान से विवाह किया, जिनसे उनके पांच बच्चे थे।

1921 में, सुभद्रा कुमारी चौहान और उनके पति महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन में शामिल हुए। वह नागपुर में गिरफ्तार होने वाली पहली महिला सत्याग्रही थीं और 1923 और 1942 में ब्रिटिश शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के कारण उन्हें दो बार जेल भी हुई थी।

freehindipustak पर उपलब्ध इन हजारो बेहतरीन पुस्तकों से आपके कई मित्र और भाई-बहन भी लाभ ले सकते है – जरा उनको भी इस ख़जाने की ख़बर लगने दें | 

Subhadra Kumari Chauhan (16 August 1904– 15 February 1948) was an Indian poet famous for the popular poem “Jhansi ki Rani” (about the Queen of Jhansi).

Subhadra Kumari Chauhan was a prominent poetess in India, whose writings used to be very emotionally charged. She was born in 1904 at the Nihalpur village in the Allahabad district.

She married Thakur Lakshman Singh Chauhan of [Khandwa] in 1919 at age of sixteen, with whom she had five children.

In 1921, Subhadra Kumari Chauhan and her husband joined Mahatma Gandhi’s Non-Cooperation Movement. She was the first woman Satyagrahi to court arrest in Nagpur and was jailed twice for her involvement in protests against British rule in 1923 and 1942

Connect with us / सोशल मीडिया पर हमसे जुरिए 

telegram hindi pustakhindi pustak facebook