मेरा संघर्ष एडॉल्फ हिटलर द्वारा पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड | Mera sangharsh By Adolf Hitler PDF In Hindi Free Download

मेरा संघर्ष एडॉल्फ हिटलर द्वारा पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड | Mera sangharsh By Adolf Hitler PDF In Hindi Free Download

सभी हिंदी पुस्तकें पीडीएफ Free Hindi Books pdf

पुस्तक डाउनलोड करे

पुस्तक ख़रीदे

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

अगर इस पेज पर दी हुई सामग्री से सम्बंधित कोई भी सुझाव, शिकायत या डाउनलोड नही हो रहे हो तो नीचे दिए गए Contact Us बटन के माध्यम से सूचित करें। हम आपके सुझाव या शिकायत पर जल्द से जल्द अमल करेंगे

hindi pustak contactSummary of Book / बुक का सारांश 

मैंने आन्दोलन के माध्यम से विरोधी भाव अपनाते हुए जर्मन राष्ट्र द्वारा काला, सफेद, लाल रंगों वाला पुराना झण्डा त्याग दिया था। राजनीतिज्ञों तथा मेरे नजरिये में जमीन-आसमान जैसा फर्क था। मैं ईश्वर का आभार व्यक्त करता हूँ कि उसने हमारे केन्द्र में सफेद चक्र तथा काले स्वास्तिक के चिन्ह वाला युद्धकालीन झण्डे का सम्मान सदैव सुरक्षित रखा। वर्तमान काल के राइख जिसने खुद को तथा अपने लोगों को बेच दिया, उसे हमारे काले, सफेद तथा लाल रंगों वाले आदरणीय तथा साहस के प्रतीक झण्डे को कभी अपनाने की स्वीकृति नहीं मिलनी चाहिए।

ईश्वर का मैं धन्यवाद अदा करता हूं कि उसने मुझे ‘ब्राउनाउ-आन-द-इन’ में जन्म दिया। यह छोटा-सा कस्बा जर्मन और आस्ट्रिया राज्यों की सीमा पर है। इन दोनों राज्यों को एक करने के लिए हमें विशेषकर युवा पीढ़ी को हर सम्भव प्रयास करने होंगे। क्योंकि जर्मन व आस्ट्रिया जर्मनी का ही हिस्सा हैं। मेरा मानना है कि एक खून के लोग एक जगह ही संगठित होने चाहिए। यदि इस पुनर्गठन में जर्मनवासियों की आर्थिक हानि भी उठानी पड़े तो भी यह घाटे का सौदा नहीं होगा।

freehindipustak पर उपलब्ध इन हजारो बेहतरीन पुस्तकों से आपके कई मित्र और भाई-बहन भी लाभ ले सकते है – जरा उनको भी इस ख़जाने की ख़बर लगने दें | 

By adopting antithetical sentiments through the movement, I had abandoned the old flag of black, white, red colors by the German nation. There was a stark difference between the politicians and my point of view. I thank God that he always preserved the honor of the wartime flag with the white circle and black swastika symbol in our center. The present-day Reich who sold himself and his people should never be allowed to adopt our venerable and courageous flag in black, white and red colours.

I thank God that he gave birth to me in Braunau-on-the-Inn. This small town is on the border of the German and Austrian states. To unite these two states, we have to make every effort, especially the younger generation. Because Germany and Austria are part of Germany itself. I believe that people of one blood should be organized in one place. Even if the German people had to bear the economic loss in this reorganization, it would not be a loss-making deal.

Connect with us / सोशल मीडिया पर हमसे जुरिए 

telegram hindi pustakhindi pustak facebook