होम्योपैथिक आषधियो का संजीव चित्रन प्रो सत्यव्रत सिद्धांतलंकर द्वारा हिंदी में पीडीएफ फाइनल डाउनलोड | Homoeopathic Aoshdhiyo Ka Sajeev Chittran By Prof Satyavrat Siddhantalankar In Hindi PDF Final Download

होम्योपैथिक आषधियो का संजीव चित्रन प्रो सत्यव्रत सिद्धांतलंकर द्वारा हिंदी में पीडीएफ फाइनल डाउनलोड | Homoeopathic Aoshdhiyo Ka Sajeev Chittran By Prof Satyavrat Siddhantalankar In Hindi PDF Final Download

सभी हिंदी पुस्तकें पीडीएफ Free Hindi Books pdf

पुस्तक डाउनलोड करे

पुस्तक ख़रीदे

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

अगर इस पेज पर दी हुई सामग्री से सम्बंधित कोई भी सुझाव, शिकायत या डाउनलोड नही हो रहे हो तो नीचे दिए गए Contact Us बटन के माध्यम से सूचित करें। हम आपके सुझाव या शिकायत पर जल्द से जल्द अमल करेंगे

hindi pustak contactSummary of Book / बुक का सारांश 

होम्योपैथी ने 19वीं शताब्दी में अपनी सबसे बड़ी लोकप्रियता हासिल की। इसे संयुक्त राज्य अमेरिका में १८२५ में पहली होम्योपैथिक स्कूल खोलने के साथ १८३५ में पेश किया गया था। १९वीं शताब्दी के दौरान, यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में दर्जनों होम्योपैथिक संस्थान दिखाई दिए। इस अवधि के दौरान, होम्योपैथी अपेक्षाकृत सफल दिखाई देने में सक्षम थी, क्योंकि उपचार के अन्य रूप हानिकारक और अप्रभावी हो सकते हैं। सदी के अंत तक, यह प्रथा समाप्त होने लगी, अमेरिका में अंतिम विशेष रूप से होम्योपैथिक मेडिकल स्कूल 1920 में बंद हो गया।

freehindipustak पर उपलब्ध इन हजारो बेहतरीन पुस्तकों से आपके कई मित्र और भाई-बहन भी लाभ ले सकते है – जरा उनको भी इस ख़जाने की ख़बर लगने दें | 

Homeopathy achieved its greatest popularity in the 19th century. It was introduced to the United States in 1825 with the first homeopathic school opening in 1835. Throughout the 19th century, dozens of homeopathic institutions appeared in Europe and the United States. During this period, homeopathy was able to appear relatively successful, as other forms of treatment could be harmful and ineffective. By the end of the century, the practice began to wane, with the last exclusively homeopathic medical school in the US closing in 1920.

Connect with us / सोशल मीडिया पर हमसे जुरिए 

telegram hindi pustakhindi pustak facebook